Weird Culture: चीन में बच्चा पैदा करते ही गर्भनाल खा जाती है मां, बच्चे के नाभि से नोचकर पका लेती है सूप

Weird Culture: चीन में बच्चा पैदा करते ही गर्भनाल खा जाती है मां, बच्चे के नाभि से नोचकर पका लेती है सूप

चीन (China) के खान-पान से तो हर कोई वाकिफ है. कुत्ते के मांस से लेकर जिंदा जीव, चाइना में लोग सब कुछ खा लेते हैं लेकिन क्या आपको वहां की एक अजीबोगरीब परंपरा (Weird Culture) के बारे में पता है, जिसमें बच्चे के जन्म के बाद लोग मां की गर्भनाल ही (Placenta eating) खा जाते हैं?दरअसल, चीन में इसे प्लेसेंटोफैगी (Placentophagy or Placentophagia) कहा जाता है, आपको बता दें कि वहां के लोगों का यह मानना ​​है कि प्लेसेंटा (Placenta) में बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं, जिसकी वजह से वह इसे खाते हैं. आपको जानकारी दे दें कि चीन में मां बच्चे को पैदा करने के बाद खुद ही अपनी गर्भनाल को खा जाती है. यही नहीं, कई बार अस्पताल से इसकी चोरी भी हो जाती है, जो कि बाहर ले जा कर ऊंची कीमत पर बेची जाती है. आपको यह जानकर भी हैरत होगी कि इस देश में प्लेसेंटा को दवाओं की तरह भारी कीमत पर बेचा जाता है. साथ ही इसे सुखाने के बाद औषधि की तरह भी इस्तेमाल किया जाता है और कई लोग तो इसका सूप बनाकर भी पीते हैं.चीन में सालों से खा रहे हैं गर्भनालजानकारी के मुताबिक चीन में रहने वाले लोगों का मानना ​​है कि गर्भनाल खाने से महिलाओं को बच्चा पैदा करने के बाद तनाव महसूस नहीं होता. साथ ही यह उन्हें जवान दिखाने में कारगर है. वहीं यह भी कहा जाता है कि पुरुषों के लिए यह नपुंसकता का इलाज है. आपको यह भी बता दें कि जानकारी के अनुसार चीन में इसे 1500 साल से खाया जा रहा है. हांलाकि, चीन के इसे खाने से मिलने वाले फायदों को लेकर किए गए दावों की कभी चिकित्सकों ने पुष्टि नहीं की है, बल्कि डॉक्टर्स का कहना है कि इसे खाने के नुकसान बेशक हैं. डॉक्टरों का मानना है कि इसमें वायरस हो सकते हैं. दरअसल, टेक्सास यूनिवर्सिटी अस्पताल (Texas University Hospital) के डॉक्टर्स का कहना है कि प्लेसेंटा मां से बच्चे तक पोषण फिल्टर कर पहुंचाती है इसलिए इसमें खतरनाक बैक्टीरिया और वायरस छिपे हो सकते हैं, जिसे खाने से बीमारियां हो सकती हैं.यह भी पढ़ें- फ्लाइट के डस्टबिन में महिला ने फेंका बच्चे का गंदा डायपर, एयर होस्टेस ने हाथों से निकलवा कर घर भिजवायागर्भनाल खाने वाली माताओं के बच्चे हो सकते हैं बीमारप्लेसेंटा खाने के बारे में 2016 में सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (Center for Disease Control and Prevention) ने एक शोध किया था, जिसमें चौंकाने वाले तथ्य सामने आए थे. यह शोध एक ऐसी मां पर किया गया था जिसके बच्चे के खून में गंभीर संक्रमण पहले से मौजूद था. आपको बता दें कि उस शोध में सामने आया था कि बच्चे के साथ ऐसा तब हुआ जब मां बच्चे के जन्म के बाद रोजाना प्लेसेंटा से बना कैप्सूल खा रही थी, उस दौरान वह बच्चे को दूध पिलाती थी और इसी वजह से संक्रमण बच्चे तक पहुंच गया.पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )