17.9 C
London
Sunday, July 25, 2021

Prayagraj: एसआरएन अस्पताल के डॉक्टरों पर लगा युवती से गैंगरेप का आरोप, जांच के लिए कमेटियां गठित

- Advertisement -spot_imgspot_img

प्रयागराज स्वरूपरानी अस्पताल के डॉक्टरों पर लगा गैंगरेप का आरोप

Prayagraj News: एसआरएन अस्पताल के डॉक्टरों पर गैंगरेप के लगे गंभीर आरोप की जांच के लिए दो जांच कमेटियों का गठन भी कर दिया गया है. एक जांच कमेटी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल प्रोफेसर एसपी सिंह की ओर से गठित की गई है, तो वहीं दूसरी जांच टीम का गठन सीएमओ प्रयागराज डॉक्टर प्रभाकर राय ने किया है.

प्रयागराज. संगमनगरी प्रयागराज (Prayagraj) के मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज (Motilal Nehru Medical College) के एसआरएन अस्पताल (SRN Hospital) में इलाज के लिए भर्ती मिर्जापुर की एक युवती से गैंगरेप (Gangrape) का सनसनीखेज मामला सामने आया है. युवती ने ऑपरेशन के दौरान डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों पर अपने साथ गलत काम करने का आरोप लगाया है. पीड़िता के चचेरे भाई की सूचना पर मंगलवार की रात मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले की जांच पड़ताल की थी. लेकिन अन्य परिजनों द्वारा ऐसा आरोप नहीं लगाए जाने पर पुलिस वापस लौट गई थी.
वहीं एसआरएन अस्पताल के डॉक्टरों पर गैंगरेप के लगे गंभीर आरोप की जांच के लिए दो जांच कमेटियों का गठन भी कर दिया गया है. एक जांच कमेटी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल प्रोफेसर एसपी सिंह की ओर से गठित की गई है, तो वहीं दूसरी जांच टीम का गठन सीएमओ प्रयागराज डॉक्टर प्रभाकर राय ने किया है. जांच टीम में शामिल किए गए डॉक्टरों की रिपोर्ट आने के बाद आगे की विधिक कार्यवाई किए जाने की बात कही जा रही है.
चचेरे भाई ने वीडियो वायरल कर मचाया हड़कंप
गौरतलब है कि मिर्जापुर के एक युवक ने मंगलवार देर रात सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल कर हड़कंप मचा दिया. युवक ने आरोप लगाया कि आंत में समस्या के चलते उसने अपनी चचेरी बहन को 29 मई को एसआरएन अस्पताल में भर्ती कराया था. एक जून की रात डॉक्टर उसका ऑपरेशन करने के लिए उसे ओटी में लेकर गये. ऑपरेशन के बाद लौटी युवती अचेत लग रही थी और कुछ कहना भी चाह रही थी. युवती को जब पेन और कागज दिया गया तो उसने कंपकंपाते हाथों से लिखा कि डॉक्टर अच्छी नहीं है, सब मिले हैं, कोई इलाज नहीं किया है और उसके साथ गंदा काम किया है. युवती के लिखते हुए भी उसके चचेरे भाई ने वीडियो बनाया है और उसको भी वायरल कर दिया है.पुलिस ने कही ये बात
वहीं मंगलवार की रात वीडियो वायरल होने के बाद सीओ कोतवाली सत्येन्द्र तिवारी भी मौके पर पहुंचे थे. उन्होंने पीड़ित युवती की मां और अन्य रिश्तेदारों से भी पूछताछ की थी, लेकिन पुलिस के मुताबिक परिजनों द्वारा ऐसा आरोप में लगाए जाने पर युवती के होश में आने पर जांच की बात कहकर पुलिस लौट आई. पुलिस इस मामले में एक नई कहानी भी बता रही है. पुलिस के मुताबिक युवती को प्यास लगी थी डॉक्टर ने पानी देने के लिए मना किया था जिससे वह परेशान थी और उसकी हालत गंभीर बनी थी. शायद इसी मानसिक परेशानी की वजह से उसने ऐसा लिखा है.
दो जांच कमेटी गठित
फिलहाल डॉक्टरों पर गैंगरेप का आरोप लगने के बाद स्वास्थ्य महकमे में भी हड़कंप मचा हुआ है. मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य की संस्तुति पर सीएमओ ने बुधवार को जिला महिला अस्पताल डफरिन में युवती का मेडिकल भी कराया है. मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ एसपी सिंह ने इस मामले की जांच के लिए पांच सदस्य डॉक्टरों की टीम गठित की है. इस जांच टीम में डॉ वत्सला मिश्रा, डॉ अजय कुमार, डॉ अरविंद गुप्ता, डॉक्टर अमृता चौरसिया और डॉक्टर अर्चना कौलल को शामिल किया गया है.
डॉक्टरों ने कही ये बात
डॉक्टरों के मुताबिक युवती की आंत पूरी तरह से फट गई थी सोमवार एक जून की रात 11 बजे तक उसका ऑपरेशन किया गया. जिसके बाद उसे वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया. इस दौरान उसके परिजन भी मौजूद थे जबकि एक दिन पहले ही युवती को ब्लड भी चढ़ाया गया था. मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य के मुताबिक ऑपरेशन के समय ओटी में 4 महिला सर्जन एक महिला नर्स दो पुरुष डॉक्टर एक वार्ड बॉय मौजूद था. वहीं सीएमओ डॉक्टर प्रभाकर राय ने भी डॉक्टरों पर लगे आरोपों की जांच के लिए एक कमेटी बनाई है. उन्होंने रिपोर्ट आने के बाद मामले में कार्यवाई की बात कही है. हालांकि अपनी चचेरी बहन के साथ डॉक्टरों के गैंग रेप का आरोप लगाने और सोशल मीडिया में वीडियो वायरल करने वाला युवक अब मीडिया के सामने नहीं आ रहा है.

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here