स्वर्ग से कम नहीं है ये पहाड़ी घाटी, साथी के साथ जरूर जाएं घूमने

स्वर्ग से कम नहीं है ये पहाड़ी घाटी, साथी के साथ जरूर जाएं घूमने

स्वर्ग से कम नहीं है ये पहाड़ी घाटी, साथी के साथ जरूर जाएं घूमने

घूमने का असली मजा तो फक्कडपन और आवारगी में है. घूमने के दौरान एक शांत जगह पर जाना जहां ज्यादा भीड़ भाड़ और चहल पहल न हो मन को एक बेहद ही पुसुकूनियत के एहसास से भर देता है.

News18Hindi

Last Updated:
February 7, 2021, 12:11 PM IST

घुमक्कड़ों के लिए घूमने से जरूरी चीज कोई दूसरी नहीं हो सकती. घूमना जीवन जीने की तरह हैं. इससे जहां मन को राहत और सुकून का एहसास होता है वहीं घूमने के दौरान हम अलगअलग सभ्यता, संस्कृतियों और एक अलग परिवेश में रहने वाले लोगों के जीवन से जुड़ पाते हैं. कई लोग ज्यादातर उन जगहों पर जाना पसंद करते हैं जो मशहूर ट्रेवल डेस्टिनेशन हैं लेकिन घूमने का असली मजा तो फक्कडपन और आवारगी में है. घूमने के दौरान एक शांत जगह पर जाना जहां ज्यादा भीड़ भाड़ और चहल पहल न हो मन को एक बेहद ही पुसुकूनियत के एहसास से भर देता है. ऐसी ही एक शांत जगह है पाब्बर नदी की घाटी. आइए जानते हैं इसके बारे में. हिन्दुस्तान तिब्बत रोड पर थेग के निकट और शिमला से करीब 131 किलोमीटर दूर रोहरु में पाब्बर नदी की घाटी स्थित है. सैलानी यहां तमाम दर्शनीय स्थलों पर घूमने का लुत्फ़ उठा सकते हैं और ट्रेकिंग का भी मजा ले सकते हैं. यहां से करीब 31 किलोमीटर की दूरी पर जुब्बल में यूरोपीय और वर्नाक्यूलर शिल्पकला के खूबसूरत महल बने हुए हैं. पर्यटक इनकी खूबसूरती भी निहार सकते हैं. पाब्बर नदी हिमाचल प्रदेश में स्थित है. इस इलाके में देवदार, ओक और सेब के पेड़ों से लदे जंगल इसकी शोभा और बढ़ा देते हैं. हालांकि यह इलाका सैलानियों की चहल पहल से हमेशा गुलजार नहीं रहता है. यहां का रास्ता नेशनल हाईवे NH22 थियोग से होते हुए पाब्बर घाटी और उससे आगे की तरफ जाता है.अगर आपको प्रकृति को गोद में एकांत में समय बिताना पसंद है और आपके एडवेंचर से नहीं घबराते हैं तो यह जगह आपको रोमांच से भर देगी इस बात में कोई दोराय नहीं है. यहां पर आसमान छूते पहाड़, कल-कल की ध्वनि करते झरने और झीलें इस जगह को जन्नत जैसा खूबसूरत बनाते हैं. अगर आप ट्रेकिंग करना पसंद करते हैं तो कुपर वैली ट्रेक और चैंशल ट्रेक में आपके लिए कई अवसर मौजूद हैं. यहां नदी किनारे आप फिशिंग का भी आनंद ले सकते हैं.

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )