सविता बजाज हुईं पाई-पाई को मोहताज, बोलीं- अब गुजारा करना बहुत मुश्किल हो रहा है

सविता बजाज हुईं पाई-पाई को मोहताज, बोलीं- अब गुजारा करना बहुत मुश्किल हो रहा है

कहते हैं बुरा समय किसी को बता कर नहीं आता. सुख और दुख दोनों जीवन के पहलू हैं, लेकिन परेशानियां तब शुरू हो जाती हैं जब दुख के समय अपने भी मुंह मोड़ लेते हैं. शगुफ्ता अली, बाबा खान के बाद कई फिल्मों में काम कर चुकीं सीनियर एक्ट्रेस सविता बजाज (Savita Bajaj) भी पाई-पाई को मोहताज हैं. सविता बजाज कोरोना और फिर बीमारी के बाद आर्थिक तंगी से जूझ रही हैं. हाल ही में मदद की गुहार लगाते हुए सविता बजाज ने बताया कि उनकी सारी जमा पूंजी खत्म हो गई है और अब उनके लिए किसी तरह से मैनेज करना बहुत मुश्किल हो रहा है.’निशांत’, ‘नजराना’ और ‘बेटा हो तो ऐसा’ जैसी फिल्मों और ‘नुक्कड़’, ‘मायका’ और ‘कवच’ जैसे टीवी सीरियलों में भी नजर आ चुकीं सविता बजाज (Savita Bajaj) को शायद ये अंदाजा नहीं था कि बुढ़ापे में ऐसे भी दिन देखने को मिलेंगे. ईटाइम्स के साथ बातचीत में उन्होंने बताया कि अब उनके पास जीवन जीने के लिए पैसे नहीं हैं. उन्होंने अपनी जमा पूंजी अपनी खराब सेहत को ठीक कराने में लगा दी. एक बीमारी से निकलीं तो सांस की बीमारी ने जकड़ लिया है.सविता बजाज ने बताया कि उनकी मदद के लिए राइटर्स एसोसिएशन और CINTAA (सिने एंड टेलीविजन आर्टिस्ट एसोसिएशन) की तरफ से जो मदद मिल पा रही हैं, उसी से गुजारा चल रहा है. उन्होंने बताया कि राइटर्स एसोसिएशन से 2 हजार और CINTAA की तरफ से 5 हजार रुपये की मदद मिलती है, जिससे वह गुजारा कर रही हैं, लेकिन उम्र के साथ बढ़ती बीमारियों ने उनकी चिंता को बढ़ा दिया है.ये भी पढ़ें:  दीया मिर्जा दो महीने पहले ही बन चुकी हैं मां, अब बताया क्या रखा है बेटे का नामअपनी आपबीती बताते हुए उन्होंने कहा कि मेरा ख्याल रखने वाला कोई नहीं है. 25 साल पहले मैंने फैसला किया था कि मैं अपने होमटाउन दिल्ली वापस लौट जाऊंगी, लेकिन मेरे परिवार में से कोई भी मुझे साथ नहीं रखना चाहता. उन्होंने कहा कि मैंने बहुत कमाया, बहुत जरूरतमंदों की मदद की पर आज स्थिति ऐसी है कि मुझे खुद मदद की जरूरत है.पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )