मुंबई: व्हेल मछली की उल्टी का कर रहे थे अवैध कारोबार, 6 करोड़ की एम्बरग्रीस के साथ दो गिरफ्तार

मुंबई: व्हेल मछली की उल्टी का कर रहे थे अवैध कारोबार, 6 करोड़ की एम्बरग्रीस के साथ दो गिरफ्तार

मुंबई. मुंबई क्राइम ब्रांच (Mumbai Crime Branch) ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है जो व्हेल मछली (whale) की उल्टी (Ambergris) की अवैध खरीद-बिक्री करते थे. इस मामले में क्राइम ब्रांच ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है और उनके पास से 6 किलोग्राम एम्बरग्रीस बरामद की है. इस एम्बरग्रीस की बाजार में 6 करोड़ रुपये से ज्यादा कीमत बताई जा रही है. यह दोनों आरोपी मुंबई के पवई इलाके में एम्बरग्रीस की सप्लाई करने के लिए आए थे.मुंबई क्राइम ब्रांच की यूनिट 10 को अपने गोपनीय सूत्रों से यह जानकारी मिली थी कि पवई इलाके में एक कार में दो लोग एम्बरग्रीस की खरीददारी व बिक्री करने के लिए आने वाले हैं. जानकारी मिलते ही मुंबई क्राइम ब्रांच की टीम ने जाल बिछाया. कुछ देर बाद वहां एक कार आकर रुकी. संदेह के आधार पर क्राइम ब्रांच ने कार को रोका और उसकी तलाशी ली तो करीब 6 किलो एम्बरग्रीस बरामद हुई. इसके बाद क्राइम ब्रांच में कार में बैठे दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.इसे भी पढ़ें :- क्यों हीरे, मोती और सोने से ज्यादा कीमती होती है व्हेल की उल्टीजानकारी के मुताबिक एम्बरग्रीस का इस्तेमाल कई दवाओं को बनाने में किया जाता है और यह काफी महंगी बिकती है. दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद क्राइम ब्रांच यह पता करने में लगी हुई है कि यह किसे सप्लाई होनी थी और इस गिरोह में और कौन-कौन से लोग शामिल हैं.इसे भी पढ़ें :- समुद्र किनारे गरीब मछुआरे को मिली व्हेल की उल्टी, रातों-रात बन गया करोड़पति!दवा के अलावा कहां किया जाता है इस्तेमाल?
एम्बरग्रीस ज्यादातर इत्र और दूसरे सुगंधित उत्पाद बनाने में इस्तेमाल किया जाता है. एम्बरग्रीस से बना इत्र अब भी दुनिया के कई इलाकों में मिल सकता है. प्राचीन मिस्र के लोग एम्बरग्रीस से अगरबत्ती और धूप बनाया करते थे. वहीं आधुनिक मिस्र में एम्बरग्रीस का उपयोग सिगरेट को सुगंधित बनाने के लिए किया जाता है. प्राचीन चीनी इस पदार्थ को “ड्रैगन की थूकी हुई सुगंध” भी कहते हैं.पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )