महिला की बॉडी पर हैं 200 से भी ज्यादा ट्यूमर्स, गली में निकलती है तो अजीबोगरीब तरीके से देखते हैं लोग!

महिला की बॉडी पर हैं 200 से भी ज्यादा ट्यूमर्स, गली में निकलती है तो अजीबोगरीब तरीके से देखते हैं लोग!

Real Life Story: कोई इंसान जरा भी अलग दिखता हो या उसे कोई ऐसी बीमारी हो जिसका वो चाह कर भी कुछ नहीं कर सकता तो कई लोग बिना उसकी कहानी जाने उसे तिरछी निगाहों से देखने लगते हैं. ऐसा ही कुछ 33 वर्षीय महिला के साथ होता है, जिन्होंने बताया कि वह जब घर से बाहर निकलती हैं तो लोग उन्हें अजीब तरह से घूरते हैं.दरअसल, यूएस वर्जिन आइलैंड्स के सेंट क्रोक्स (St Croix, US Virgin Islands) में रहने वाली जमीला गोर्डन (Jamila Gordon) ने मीडिया के साथ अपनी स्टोरी साझा करते हुए बताया कि बचपन में पेट पर एक गांठ बन गई थी, जिसके बाद उन्होंने डॉक्टर से जांच कराई तो पता चला कि उन्हें न्यूरोफाइब्रोमैटोसिस (Diagnosed with neurofibromatosis) है. जानकारी के मुताबिक बढ़ती उम्र के साथ उनके शरीर के हर हिस्से पर सैकड़ों ट्यूमर विकसित हो गए. जानकारी के लिए बता दें कि न्यूरोफाइब्रोमैटोसिस एक जेनेटिक स्थिति है जिसके कारण नसों के पास ट्यूमर विकसित हो जाते हैं. जमीला का कहना है कि यह ट्यूमर दर्दनाक हैं और उन्हें इनमें खुजली भी होती है.आत्मविश्वास पर पड़ा प्रभावजमीला कहती हैं, ‘ट्यूमर में दर्द होता है और उनमें वास्तव में खुजली होती है. ये मेरे पूरे शरीर पर और मेरे पैरों के नीचे भी हैं, जिससे चलना मुश्किल हो जाता है. मेरे शरीर पर 200 से अधिक ट्यूमर्स होंगे.’ वह बताती हैं कि इनके कारण उनके आत्मविश्वास पर बहुत प्रभाव पड़ा. वह कहती हैं कि जब लोग उन्हें घूरते हैं तो वह घबरा जाती हैं और उदास होने के साथ-साथ चिंतित भी हो जाती हैं. उन्होंने जानकारी दी कि उन्होंने सर्जरी के द्वारा कुछ ट्यूमर हटवा दिए थे, जो बाद में फिर से विकसित हो गए. वह कहती हैं, ‘बच्चे मुझे घूरते हैं, कुछ लोग आकर पूछते भी हैं लेकिन बहुत लोग बस खड़े होकर घूरते रहते हैं.’ उन्होंने आगे बताया, ‘जब मैं छोटी थी तो मुझे स्कूल में चिढ़ाया जाता था इसलिए मुझे पढ़ने में मुश्किल होती थी और मैं कभी स्कूल नहीं जाना चाहती थी. इनकी वजह से मुझे रिलेशनशिप्स में भी मायूसी हाथ लगी.’यह भी पढ़ें- देखने में लगती हैं जुड़वां बहनें, लेकिन असल में हैं मां-बेटी.. तस्वीरें देख आप भी खा जाएंगे धोखाबेटी को भी है यह बीमारीजमीला का कहना है कि लोग उनके आस-पास असहज महसूस करते हैं. इसी कारण से उन्हें अपनी नौकरी से भी हाथ धोना पड़ा था. आपको बता दें कि जमीला की बेटी तात्याना को भी यह बीमारी है जिसकी वजह से जमीला को उसके भविष्य की चिंता रहती है. हांलाकि 8 साल की तात्याना ने ही जमीला को अपना आत्मविश्वास वापस पाने में मदद की. जमीला कहती हैं, ‘उसने अभी नोटिस करना शुरू किया है कि लोग घूर रहे हैं, लेकिन उसे परवाह नहीं है कि कोई क्या सोचता है. वह स्कूल के बाद मेरा नाम जोर से पुकारती हुई गले लगाने के लिए सीधे मेरे पास दौड़ी चली आती है.’पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )