‘भोजपुरी के शेक्सपियर’ भिखारी ठाकुर के गीत ‘बिदेसिया’ को गोपाल राय और नीलम गिरी ने दिया नया रंग, Video वायरल

‘भोजपुरी के शेक्सपियर’ भिखारी ठाकुर के गीत ‘बिदेसिया’ को गोपाल राय और नीलम गिरी ने दिया नया रंग, Video वायरल

भिखारी ठाकुर के गाने को गोपाल राय ने नया रंग दिया है जिसे लोग खूब पसंद कर रहे हैं.

‘भोजपुरी के शेक्सपियर’ (Shakespeare of Bhojpuri) भिखारी ठाकुर (Bhikhari Thakur) के लोकगीत ‘बिदेसिया’ (Bidesiya) को भोजपुरी के सिंगर गोपाल राय और एक्ट्रेस नीलम गिरी ने नए अंदाज में पेश किया है. गाने को काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है. आप भी देखें ये Video.

Gopal Rai | Bidesiya | स्व.भिखारी ठाकुर | Bhikhari Thakur | स्व.धनंजय मिश्रा | Neelam Giri | भोजपुरी बिदेसिया | ‘भोजपुरी के शेक्सपियर’ (Shakespeare of Bhojpuri) कहे जाने वाले भिखारी ठाकुर (Bhikhari Thakur) का नाटक और गीत ‘बिदेसिया’ (Bidesiya) काफी लोकप्रिय है. इसी पारंपरिक ‘बिदेसिया’ को भोजपुरी लोकगायक गोपाल राय (Gopal Rai) अपनी आवाज़ में लेकर आए हैं, जो वर्ल्डवाइड रिकॉर्ड्स भोजपुरी के ऑफिशियल यूट्यूब चैनल पर रिलीज होते ही खूब देखा जा रहा है. इस वीडियो सॉन्ग ‘बिदेसिया’ की सबसे खास बात यह है कि इस विडियो में ट्रेंडिंग गर्ल नीलम गिरी (Neelam Giri) दिखाई दे रही हैं. गोपाल राय के साथ वो पहली बार नजर आ रही हैं, जिसे लोग खूब पसंद कर रहे हैं. इस सॉन्ग की शुरुआत इस तरह होती है कि गोपाल राय हारमोनियम बजाते हुए गाते हुए नजर आ रहे हैं उसके बाद नीलम गिरी साड़ी में नई नवेली दुल्हन के रूप में दिख रही हैं. इस सॉन्ग ‘बिदेसिया’ की टैगलाइन लिखी गई है ‘आपन माटी आपन धरोहर’. बेशक यह मिट्टी से जुड़ा हुआ गाना है. इसके गीत और धुन स्वर्गीय भिखारी ठाकुर के हैं जबकि संगीत स्वर्गीय धनंजय मिश्रा (Dhananjai Mishra) का है. इसके म्यूजिशियन अंजनी सिंह व ग्रुप है. मिक्सिंग राकेश मिश्रा ने की है. ‘बिदेसिया’ के निर्माता रत्नाकर कुमार हैं. ‘बिदेसिया’ पति-पत्नी के बीच अटूट प्रेम के रिश्ते और दोनों के बीच जुदाई को दिखाने वाला गीत है. ‘बिदेसिया’ के माध्यम से भिखारी ठाकुर ने अपनों से दूर रहने के दर्द को कहने की कोशिश की थी. उसी सोच को गोपाल राय और नीलम गिरी ने पर्दे पर उतारा है. इस गाने में दिखाया गया है कि नीलम गिरी नवविवाहित हैं, रोजी-रोटी की तलाश में उनके पति अपने गांव को छोड़कर बड़े शहर जाना चाहते हैं. जाते समय नीलम गिरी अपने पति को रोकने की कोशिश भी करती है, लेकिन वो बिदेस चले जाते है. ‘बिदेसिया’ गाने के माध्यम से उस परदेसी की पत्नी की चिंता और दर्द को दर्शाया गया है, जिसे नीलम गिरी ने बखुबी परफॉर्म किया है. उनकी आंखों में जो दुख दर्द नजर आ रहा है वो एक बेहतरीन एक्ट्रेस की निशानी है. किस तरह पति की याद में न उन्हें नींद आती है न चैन मिलता है, इस गीत में उन भवनाओं को पेश किया गया है. रत्नाकर कुमार, नीलम गिरी और गोपाल राय की तिकड़ी का यह क्लासिक सॉन्ग असल मे भिखारी ठाकुर को अद्भुत श्रंद्धाजलि है.

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )