फूट-फूटकर रोया 9 बच्चों को जन्म देने वाले महिला का पति, मरती बीवी को लेकर कही ऐसी बात

फूट-फूटकर रोया 9 बच्चों को जन्म देने वाले महिला का पति, मरती बीवी को लेकर कही ऐसी बात

35 साल के Kadar Arby और 26 की Halma Cisse ने 2017 में शादी की थी

मोरक्को (Morocco) की रहने वाली 26 साल की हालमा सीस अर्बी (Halma Cisse) पिछले दिनों एक साथ 9 बच्चों को जन्म देकर चर्चा में आई. अब महिला का 35 साल का पति कदर अरबी (Kadar Arby) सामने आया है. उसने अपनी पत्नी और 9 बच्चों की हालत लोगों के साथ शेयर की.

26 साल की मालियन महिला ने जैसे ही एक साथ 9 बच्चों को जन्म दिया, सब हैरान रह गए. महिला को अंदाजा था कि उसके गर्भ में करीब 7 बच्चे पल रहे हैं लेकिन असल में ये 9 निकले. महिला ने अपने पति से दूर इन बच्चों की डिलीवरी की. अब महिला का पति दुनिया के सामने आया है. उसने लोगों के साथ अपना दुःख शेयर किया. उसने बताया कि उसे अपनी पत्नी पर गर्व है. उसने अकेले ही हिम्मत कर 9 बच्चों को जन्म दिया. लेकिन कोविड की वजह से कदर हालमा से मिलने नहीं जा सकता. फिलहाल वो अपनी पत्नी से दूर अपनी ढाई साल की बेटी की देखभाल कर रहा है.
बच्चों को बताया खुदा का तोहफा
पेशे से सैनिक हालमा का पति कदर अभी माली में है. वहाँ वो अपनी ढाई साल की बेटी के साथ अकेले रह रहा है. 9 बच्चों को जन्म देने वाली पत्नी के बारे में कदर ने कहा कि वो हर दिन उससे फोन पर बात करता है. उसकी हालत काफी नाजुक है लेकिन वो अपने बच्चों से मिलने के लिए बेकरार है. कदर ने सभी बच्चों को खुदा का तोहफा बताया. साथ ही कहा कि कोरोना के कारण अभी वो अपने बच्चों के पास नहीं जा सकता है. लेकिन उसे जल्द से जल्द बच्चों से मिलने का मन है.
मौत के मुंह में चली गई थी महिला9 बच्चों को जन्म देने वाली हालमा की मेडिकल कंडीशन भी डॉक्टर्स ने रिवील की. हालमा को प्रसव के दौरान काफी ब्लड लॉस हुआ. इस वजह से वो बेहद कमजोर हो गई है. साथ ही डिलीवरी के वक्त एक समय ऐसा भी आया था जब डॉक्टर्स को लगा कि वो हालमा को नहीं बचा पाएंगे. हालमा और कदर की शादी 2017 में हुई थी. दोनों की पहले से एक बेटी भी है. अब एक साथ 9 बच्चों को दोनों 10 बच्चों के पेरेंट्स बन गए हैं.
बच्चों की नाजुक है हालत
मोरक्को में 9 बच्चों को जन्म देने के बाद हालमा चर्चा में आई थी. डॉक्टर्स ने महिला और बच्चों की हेल्थ बुलेटिन शेयर की है. सभी बच्चे बेहद कमजोर हैं. द टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक, बच्चों के पेट में डाइजेस्टिव ट्रैक्ट नहीं है. इस वजह से वो खाना एब्जॉर्ब नहीं कर पा रहे हैं. अगले चार महीने तक वो डॉक्टर्स की निगरानी में रहेंगे. अगर इन्हें छोटा सा भी इन्फेक्शन हुआ तो उनकी जान जा सकती है.

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )