दिल्ली पुलिस ने किया ऑटोलिफ्टर व स्नैचर गैंग का भंडाफोड़, 4 गिरफ्तार, चोरी के 37 टू व्हीलर बरामद

दिल्ली पुलिस ने किया ऑटोलिफ्टर व स्नैचर गैंग का भंडाफोड़, 4 गिरफ्तार, चोरी के 37 टू व्हीलर बरामद

बाहरी जिला पुलिस ने ऑटो लिफ्टर और स्नैचरों के गैंग का भंडाफोड़ कर तीन हिस्ट्रीशीटर समेत चार को गिरफ्तार किया है.

पुलिस ने ऑटो लिफ्टर और स्नैचरों के गैंग का भंडाफोड़ कर तीन हिस्ट्रीशीटर समेत चार को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने उनके पास से चोरी के 37 दोपहिया वाहन बरामद किए है. पुलिस ने आरोपियो को गिरफ्तार कर वाहन चोरी के 32 मामले और स्नैचिंग के 17 मामले सुलझा लिये है.

नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi) के बाहरी जिला पुलिस ने ऑटो लिफ्टर और स्नैचरों के गैंग का भंडाफोड़ कर तीन हिस्ट्रीशीटर समेत चार को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने उनके पास से चोरी के 37 दोपहिया वाहन बरामद किए है. पुलिस ने आरोपियो को गिरफ्तार कर वाहन चोरी के 32 मामले और स्नैचिंग के 17 मामले सुलझा लिये है.
दिल्ली बाहरी जिला पुलिस उपायुक्त ने बताया कि 2 जून को एसआई परमेंद्र कुमार की देखरेख में हेड कांस्टेबल सेवा राम, कांस्टेबल अमित, कृष्ण, सुनील और राजेश की टीम सुल्तानपुरी बस टर्मिनल के पास एक विशेष पिकेट पर वाहनों की चेकिंग कर रहे थे.
इसी बीच रात करीब साढ़े आठ बजे टीम ने देखा कि रोहिणी सेक्टर-20 की तरफ से बाइक और स्कूटी पर चार लोग आ रहे हैं. पुलिस पार्टी को देखकर उन्होंने भागने का प्रयास किया लेकिन अलर्ट स्टाफ ने गौरव (22), हेमंत (25), मनीष काना (23) और विनोद (38) को पकड़ लिया. इसमे तीन सुल्तानपुरी थाने के बीसी है और कई मामलों में शामिल है.
पुलिस ने जब ई-बीटबुक एप पर जब बाइक और स्कूटी की जांच की तो वह सुल्तानपुरी से चोरी पाई गई. पुलिस की पूछताछ में आरोपियो ने बड़ी संख्या में दोपहिया वाहन चोरी और उनके द्वारा छीने गए मोबाइल फोन का खुलासा हुआ.पुलिस को पता चला कि सुल्तान पुरी थाने का बीसी और गैंग का किंगपिन विनोद अपने अन्य गिरफ्तार सहयोगियों के साथ लंबे समय से चोरी के मामलों में शामिल थे. शुरू में वे चोरी के वाहनों को कबाड़ के डीलरों को बेच रहे थे.
लेकिन लॉक डाउन के कारण उन्हें खरीदार नहीं मिल रहे थे. इसलिए, उन्होंने इन वाहनों को स्वयं और दूसरों द्वारा किराये के आधार पर उपयोग करने की योजना बनाई. पकड़े जाने से बचने के लिए उन्होंने इन चोरी के वाहनों को अलग-अलग जगहों पर रखने का फैसला किया. फिर इन वाहनों को किसी अन्य स्थान पर खड़ा करना शुरू कर दिया.
पुलिस को पता चला है कि वे इन वाहनों को क्षेत्र के अन्य अपराधियों को देकर बदले में, उन्हें चोरी/छीने गए सामान/नकदी आदि का हिस्सा लेते थे. पुलिस ने उनके पास से कुल 37 चोरी के वाहन बरामद किए है जिसमे वाहन चोरी के 32 और  स्नैचिंग के 17 मामले सुलझा लिये गये है.

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )