खेलने-कूदने की उम्र में बच्चा बना दुनिया का सबसे छोटा सीरियल किलर, 8 साल की उम्र में 3 मासूमों की ली थी जान

खेलने-कूदने की उम्र में बच्चा बना दुनिया का सबसे छोटा सीरियल किलर, 8 साल की उम्र में 3 मासूमों की ली थी जान

आप आए दिन क्राइम से जुड़ी कई ख़बरें (Crime News) पढ़ते होंगे. जिनमें से कई वारदात ऐसी भी होती हैं जो शरीर में सिरहन पैदा कर दैती है. आपने इसी तरह कई सीरियल किलर्स (Serial Killers) के बारे में सुना होगा जिन्होंने न जाने कितने लोगों को बेरहमी से मार डाला लेकिन आज हम आपको जिस सीरियल किलर के बारे में बताने वाले हें, उसके गुनाह और गुनाह करने की वजह जानकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे.दरअसल, वियर्ड थिंग्स अराउंड वर्ल्ड सीरीज (Weird things around world series) के तहत आज आपको हम एक ऐसी ही खौफनाक घटना के बारे में बता रहे हैं, जिस पर विश्वास कर पाना आपके लिए मुश्किल भरा काम होगा. अमूमन वारदातों को अंजाम देने वाला उम्र में बड़ा और दिमाग से सनकी शख्स ही होता है लेकिन बिहार के मुसहर गांव (Musahar Village in Bihar) के अमरजीत सदा (Amarjeet Sada) को दुनिया के सबसे छोटे सीरियल किलर (World’s youngest serial killer) और बिहार में मिनी सीरियल किलर (Mini serial killer) के नाम से जाना जाता है. खेलने-कूदने की छोटी उम्र ने अमरजीत कैसे एक खूनी बन गया, इसकी कहानी झकझोर देने वाली है. जानकारी के मुताबिक 2006 में अमरजीत ने अपने छह वर्षीय कजिन (6 Year old cousin) की कथित तौर पर हत्या कर दी थी. माना यह भी जाता है कि इसके बाद उसने 8 महीने की अपनी सगी बहन (Real sister) को भी मौत के घाट उतार दिया था.अपने से छोटी उम्र के बच्चों को बनाता था शिकारअमरजीत के एक रिश्तेदार का कहना है कि इस बारे में परिवार के कुछ सदस्यों को पता था लेकिन इस बात को घरेलू मामले का हवाला देकर दरकिनार कर दिया जाता था लेकिन पुलिस को इस के गुनाहों की भनक तब लगी जब साल 2007 में उसने एक और जान ली. आपको बता दें कि अमरजीत ने कथित तौर पर अपने पड़ोस में रहने वाली एक महिला कि महज 6 महीने की बच्ची को बेरहमी से मार डाला था. बच्ची की मां ने इस बारे में पुलिस को बताते हुए कहा कि उन्होंने अपनी फूल जैसी बच्ची को एक प्राइमरी स्कूल में सोता हुआ कुछ देर के लिए छोड़ दिया था, जिसके बाद जब वह स्कूल में वापस लौट कर आईं तो देखा कि बच्ची वहां से गायब हो चुकी थी. जानकारी के अनुसार जब पुलिस ने बच्ची को ढूंढने की कोशिश की और इस मामले की जांच की गई तो कुछ घंटों बाद अमरजीत ने कथित तौर पर स्वीकार किया कि उसने बच्ची का गला घोंट दिया था और उसे ईंट से उस पर वार भी किया था, जिसके बाद वह ग्रामीणों को उस जगह पर ले गया जहां उसने उस बच्ची को मारने के बाद दफनाया था.गुनाह स्वीकार कर मुस्कुराता था अमरजीतमीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इस घटना के बाद ही अमरजीत के बाकी अपराधों के बारे में भी पुलिस को पता चला. आपको बता दें कि मामले की जांच कर रहे इंस्पेक्टर शत्रुघ्न कुमार ने यह बताया कि सभी हत्याओं को एक ही तरह से अंजाम दिया गया था यानि सभी मर्डर्स का एक ही पैटर्न था. उन्होंने बताया कि हिरासत में लिए जाने के बाद अमरजीत मुस्कुराता रहा लेकिन कुछ बोला नहीं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मनोवैज्ञानिकों (Psychologists) ने बताया थी कि वह कंडक्ट डिसऑर्डर (Conduct disorder) से पीड़ित है. जिसकी वजह से दूसरों को तकलीफ में देखकर उसे खुशी मिलती थी और वह सही और गलत के बीच फर्क नहीं कर पाता था. गौरतलब है कि उसके गुनाहों के बाद भी उसे भारतीय कानून के तहत जेल नहीं भेजा जा सकता. द गार्जियन (The Guardian) की रिपोर्ट में बताया गया है कि उसे 18 साल की उम्र तक मुंगेर शहर (Munger city) में बच्चों के लिए बनाए गए एक घर में रखा गया है.पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )